Continued : Part 5-हनुमानजी के ये  रहस्य जानकर आप रह जाएं हैरान

Continued : Part 5-हनुमानजी के ये  रहस्य जानकर आप रह जाएं हैरान

विभीषण ने हनुमानजी की स्तुति में एक बहुत ही अद्भुत और अचूक स्तोत्र की

रचना की है। विभीषण द्वारा रचित इस स्तोत्र को ‘हनुमान वडवानल स्तोत्र
कहते हैं। सब सुख लहे तुम्हारी सरना। तुम रक्षक काहू को डरना।। हनुमान की
शरण में भयमुक्त जीवन : हनुमानजी ने सबसे पहले सुग्रीव को बाली से बचाया
और सुग्रीव को श्रीराम से मिलाया। फिर उन्होंने विभीषण को रावण से बचाया
और उनको राम से मिलाया। हनुमानजी की कृपा से ही दोनों को ही भयमुक्त जीवन
और राजपद मिला। इसी तरह हनुमानजी ने अपने जीवन में कई राक्षसों और
साधु-संतों को भयमुक्त और जीवनमुक्त किया है। contd…..

Article by Hanuman Yagya

Leave a comment