For all those who have enrolled for singing and dance competitions, please contact us for audition dates

Category: path

सुन्दरकाण्ड का पाठ विशेष रूप से क्यों किया जाता हैं?

सुन्दरकाण्ड का पाठ विशेष रूप से क्यों किया जाता हैं?

हनुमानजी को जल्द प्रसन्न करने के लिए सुन्दरकाण्ड का पाठ किया जाता है

और इस पाठ को करने वाले व्यक्त‍ि के जीवन में खुशि‍यों का संचार होने
लगता है. क्या आप जानते हैं कि सुन्दरकाण्ड के पाठ को करने से क्या लाभ
होते हैं और क्या है इसका धार्मिक महत्व ?
1. इस काण्ड को क्यों बोला गया सुन्दरकाण्ड ? हनुमानजी, सीताजी की खोज
में लंका गए थे और लंका त्रिकुटाचल पर्वत पर बसी हुई थी. त्रिकुटाचल
पर्वत यानी यहां 3 पर्वत थे पहला सुबैल पर्वत, जहां के मैदान में युद्ध
हुआ था. दूसरा नील पर्वत, जहां राक्षसों के महल बसे हुए थे और तीसरे
पर्वत का नाम है सुन्दर पर्वत, जहां अशोक वाटिका थी. इसी वाटिका में
हनुमानजी और सीताजी की भेंट हुई थी. इस काण्ड की यही सबसे प्रमुख घटना थी
इसलिए इसका नाम सुन्दरकाण्ड रखा गया है.
2. शुभ अवसरों पर क्यों कराया जाता है सुन्दरकाण्ड ? शुभ अवसरों पर
गोस्वामी तुलसीदासजी द्वारा रचित श्रीरामचरितमानस के सुन्दरकाण्ड  का पाठ
किया जाता है. शुभ कार्यों की शुरुआत से पहले सुन्दरकाण्ड का पाठ करने का
विशेष महत्व माना गया है. किसी व्यक्ति के जीवन में ज्यादा परेशानियां
हो, कोई काम नहीं बन पा रहा हो या फिर आत्मविश्वास की कमी हो या कोई और
समस्या हो,सुन्दरकाण्ड  के पाठ से शुभ फल प्राप्त होने लग जाते हैं, कई
ज्योतिषी या संत भी विपरीत परिस्थितियों में सुन्दरकाण्ड करने की सलाह
देते हैं.
3. सुन्दरकाण्ड का पाठ विशेष रूप से क्यों किया जाता हैं? माना जाता है
किसुन्दरकाण्ड  के पाठ से हनुमानजी प्रसन्न होते हैं. सुन्दरकाण्ड के पाठ
में बजरंगबली की कृपा बहुत ही जल्द प्राप्त हो जाती है. जो लोग नियमित
रूप से सुन्दरकाण्ड का पाठ करते हैं, उनके सभी दुख दूर हो जाते हैं.
इसमें हनुमानजी ने अपनी बुद्धि और बल से सीता की खोज की है. इसी वजह से
सुन्दरकाण्ड को हनुमानजी की सफलता के लिए याद किया जाता है.
4. सुन्दरकाण्ड से मानसिक लाभ मिलता है ? वास्तव में श्रीरामचरितमानस के
सुन्दरकाण्ड की कथा सबसे अलग हैं. सम्पूर्ण श्रीरामचरितमानस भगवान
श्रीराम के गुणों और उनके पुरुषार्थ को दर्शाती हैं.  सुन्दरकाण्ड
एकमात्र ऐसा अध्याय है जो श्रीराम के भक्त हनुमान की विजय का है.
मनोवैज्ञानिक नजरिए से देखा जाए तो यह आत्मविश्वास और इच्छाशक्ति बढ़ाने
वाला काण्ड हैं. सुन्दरकाण्ड के पाठ से व्यक्ति को मानसिक शक्ति प्राप्त
होती हैं, किसी भी कार्य को पूर्ण करने के लिए आत्मविश्वास मिलता है.
5.सुन्दरकाण्ड से मिलता है धार्मिक लाभ ? सुन्दरकाण्ड से मिलता है
धार्मिक लाभ, हनुमानजी की पूजा सभी मनोकामनाओं को पूर्ण करने वाली मानी
गई है.  बजरंगबली बहुत जल्दी प्रसन्न होने वाले देवता हैं, शास्त्रों में
इनकी कृपा पाने के कई उपाय बताए गए हैं. इन्हीं उपायों में से एक उपाय
सुन्दरकाण्ड का पाठ करना है.